उतर भारत मे मानसून के फुहार से कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात…

उत्तर भारत में मानसून की फुहार से कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालात है. दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश समेत कई राज्यों में भारी बारिश के कारण लोगों का जीना मुहाल हो गया है. दिल्ली और हिमाचल प्रदेश की हालत सबसे ज्यादा खराब है. तेज बरसात के कारण कई शहर पानी-पानी हो गये हैं. भारी बारिश को देखते हुए सरकार ने स्कूलों को बंद कर दिया है. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि दिल्ली मेंं लगातार हो रही बारिश के कारण कल यानी सोमवार को स्कूल बंद रहेंगे.

भारी बारिश के कारण स्कूलों की छुट्टी

बारिश से पानी-पानी सिर्फ दिल्ली ही नहीं हुआ है. हिमाचल में भी भारी बारिश के कारण मकान से लेकर कई वाहन चक बह गये हैं. सड़के तालाब बन चुकी है. बारिश से बिगड़े हालात को देखते हुए प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंद्र सिंह सुक्खू ने सभी स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में कल और परसो यानी 10 और 11 जुलाई को अवकाश की घोषणा कर दी है. मुख्यमंत्री की ओर से जारी प्रेस बयान में यह जानकारी दी गई है. गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश में शनिवार से ही जोरदार बारिश हो रही है, जिससे सड़क पानी से भर चुकी है. नदिया उफान पर हैं.

इधर, हरियाणा में भी पानी से कोहराम मचा हुआ है. प्रदेश के कई इलाकों में भारी बारिश के कारण आम जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. सरकार और जिला प्रशासन ने गुरुग्राम के सभी स्कूलों को कल बंद करने का आदेश जारी किया है. गुरुग्राम के डीसी ने कहा है कि व्यापक जनहित में और छात्रों की सुरक्षा को देखते हुए गुरुग्राम जिले में आने वाले सभी सरकारी और निजी स्कूलों को कल यानी 10 जुलाई 2023 को बंद रखने का निर्देश दिया जाता है.

दिल्ली-हिमाचल पानी-पानी

गौरतलब है कि दिल्ली के साथ-साथ हिमाचल प्रदेश में भारी बारिश का कहर जारी है. भारी बारिश के कारण कई जगहों पर भूस्खलन हुआ है, जिससे कई घर क्षतिग्रस्त हो गये हैं. भारी बारिश और लैंडस्लाइड के कारण प्रदेश में पांच लोगों की मौत हो गई है. हिमाचल प्रदेश के कुल्लू के कसोल इलाके में भारी बारिश के कारण आई बाढ़ में कई कारें बह गईं. वहीं, ब्यास नदी में उफान के कारण मंडी का पंचवक्त्र मंदिर पानी में डूब गया है. प्रदेश में बारिश के कारण हुए भूस्खलन और पहाड़ों से चट्टान खिसकने से मंडी कुल्लू राजमार्ग बंद हो गया है. वहीं, दिल्ली में भी भारी बारिश के कारण सड़कें तालाब बन गई है. पूरे दिल्ली में बाढ़ जैसे हालात हो गये हैं.