पत्नी की हत्या के बाद दूसरी महिलाओं को निशाना बनाकर मारने वाले, अजय रविदास को पुलिस ने किया गिरफ्तार

रांची: कभी कभी कुछ लोगों पर ऐसी भूत सवार हो जाता है की उनकी उनके सोचने ओर समझने की छमता खत्म हो जाती है. क्या गलत है और क्या सही कुछ समझ में नहीं आता है. आज हम एक ऐसे ही एक इंसान के बारे में बात करने वाले है जिसने पहले अपनी पत्नी की हत्या की और बाद में दूसरी महिलायों को अपने निशाने पर ले रहा है.

मामला बोकारो का है जिसमे पत्नी की हत्या करने के बाद दूसरी अन्य महिलाओ को चाकू मारनेवाला सनकी  अजय रविदास को पुलिस द्वारा  गिरफ्तार कर लिया गया है. दरअसल सीसीटीवी फुटेज से तस्वीर वायरल होने के बाद राजाबेड़ा के समीप ग्रामीणों ने उसे धर दबोचा और पुलिस के हवाले कर दिया.

दोस्त की पत्नी को भी मारने की कोशिश 

गोमिया के होसिर सबदीटांड़ में रहने वाले किन्नू रविदास के पुत्र अजय रविदास ने हत्या की घटना को अंजाम दिया. सबसे पहले सोमवार को चंद्रपुरा स्थित डीवीसी कालोनी के पश्चिम पल्ली स्थित अपने घर में पत्नी की हत्या कर दी. उसके बाद मंगलवार को घर में ताला बंद कर पैतृक घर होसिर सबदीटांड़ चला गया. उसके बाद वो अपने पुराने दोस्त पवन रविदास के पास पंहुचा. पहले तो दोनों बजार साथ गए. उसके बाद पांच जुलाई को वह पवन के स्वांग स्थित घर पहुंचा, जहा पवन घर में मौजूद नहीं था. तब उस सनकी इन्सान ने अपने दोस्त की पत्नी गुड़िया देवी पर चाकू से हमला किया और वहा से भाग निकला. 

एक और महिला को किया लहूलुहान

इतने से भी उसका मान नही भरा तो शुक्रवार को भी उसने एक महिला को चाकू मारकर घायल कर दिया. और यह घटना चंद्रपुरा थाना क्षेत्र के पश्चिम पल्ली में हुआ जहा सुबह छह बजे जयदेव मिश्रा की पत्नी शोभा कुछ घरेलु काम कर रही थीं. तभी अजय अचानक वहां पहुंचा और उन पर चाकू से कई बार वार किए. तभी अजय से बचते हुए वह शोर मचाते हुए बाहर निकलीं और सड़क पर जा गिरी. इस दौरान स्थानीय लोगों द्वारा उनको डीवीसी अस्पताल ले जाया गया. फिर वहां से बीजीएच भेजा गया.

पुलिस ने तलाश में पाया लाश 

हलाकि इस दौरान पुलिस उसकी तलाशमें जुटी थी. इसी दौरान जब पुलिस की टीम छानबीन करते हुए उसके घर पहुंची तो भीतर से दुर्गंध आ रही थी. पुलिस ने जब दरवाजा तोडा, तो अंदर का दृश्य देख कर दंग रह गई. वहां जमीन पर अजय की पत्नी गुड़िया का शव बरामद हुआ. उस पर भी चाकू से वार के निशान मिले.  इधर, सीसीटीवी फुटेज में जब स्थानीय लोगों ने अजय को भागते देखा तो बाद में आसपास उसे पकड़ लिया और पुलिस को सौप दिया.