IAS बनने की इच्छा रखने वालों के लिए संस्कृति IAS Coaching के ए.के. अरुण सर की टिप्स

संस्कृति IAS Coaching

UPSC की परीक्षा बेहद कठिन मानी जानती है। देश के लाखों युवा छात्रों का सपना होता है कि वे UPSC पार करके IAS बन पाएं। लेकिन उनके इस सपने में बहुत सारी कठिनाइयां आती हैं। बहुत से छात्र केवल इसलिए इस सपने को पार नहीं कर पाते क्योंकि उन्हें उचित मार्गदर्शन नहीं मिलता है। और न ही वे उचित अध्ययन सामग्री जुटा पाते। हमारे पत्रकारों ने दिल्ली के संस्कृति IAS Coaching सेंटर के जाने माने शिक्षक ए.के. अरुण से बात की। उन्होंने हमे बताया की कैसे वे सालों से अपने छात्रों को अपने अनुभव के जरिए सही दिशा में ले जा रहे हैं। ए.के. अरुण बताते हैं की उन्होंने सालों से केवल UPSC के छात्रों के लिए काम किया है। उनके अनुभव इस फील्ड में इतना है कि वे छात्रों को बता सकते हैं कि क्या उन्हें UPSC परीक्षा को पार करने में मदद करेगा और क्या नहीं।

संस्कृति IAS Coaching
संस्कृति IAS Coaching

आईएएस परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए संस्कृति IAS Coaching के ए.के. अरुण द्वारा दिए गए सुझाव

नई परीक्षा प्राथमिकताएं जांचें:

संघर्ष के दौरान नई परीक्षा प्राथमिकताएं और परीक्षा पैटर्न की जांच करें। पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों का अध्ययन करें और नए ट्रेंड्स और प्रश्नों की उम्मीद करें।

समूह अध्ययन का लाभ उठाएं:

समूह अध्ययन सत्रों में भाग लेना आपकी तैयारी को बढ़ावा देता है। आप दूसरे छात्रों के साथ अवधारणाओं को विचार कर सकते हैं, समस्याओं का हल ढूंढ सकते हैं और एक-दूसरे को प्रेरित कर सकते हैं।

उचित संतुलन बनाएं:

तैयारी के दौरान मानसिक स्वास्थ्य और शारीरिक स्वास्थ्य दोनों का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है। ध्यान, योग, मेडिटेशन, योगाभ्यास और विश्राम की व्यायामिक गतिविधियों को अपनाएं।

नकारात्मकता से दूर रहें:

तैयारी के दौरान नकारात्मकता से दूर रहें और आत्मविश्वास को बढ़ावा दें। अपने व्यक्तिगत अभियानों की प्रशंसा करें और स्वयं को सकारात्मक विचारों से प्रेरित करें।

नियमित रूप से संघर्ष का समीक्षण करें:

अपनी तैयारी को नियमित रूप से समीक्षा करें। आप अपनी प्रगति को मापने के लिए अभ्यास पेपर्स, मॉक टेस्ट्स, या अन्य संघर्ष के मूल्यांकन उपकरणों का उपयोग कर सकते हैं।

समय के प्रति संज्ञानता रखें:

आपको समय के प्रति संज्ञानता रखना आवश्यक है और अपने स्वरूप के अनुसार समय प्रबंधन करना आवश्यक है। कार्यप्रवाह को सुचारू रूप से प्रबंधित करें और महत्वपूर्ण गतिविधियों को प्राथमिकता दें।

स्वतंत्र अध्ययन के साथ समय बिताएं:

निजी स्वतंत्र अध्ययन का समय निर्धारित करें और अभ्यास को पूर्णतः ध्यान केंद्रित करें। समूह अध्ययन के अलावा, यह आपको स्वतंत्र रूप से पढ़ाई करने का अवसर देता है और आपकी व्यक्तिगत आनुवति को बढ़ावा देता है।

प्रतियोगीताओं के साथ अभ्यास करें:

आप अन्य प्रतियोगीताओं के साथ अभ्यास कर सकते हैं, जैसे कि मॉक टेस्ट और सामरिक प्रश्नों का हल करना। यह आपको अपनी क्षमता का मापन करने में मदद करेगा और विभिन्न प्रकार के प्रश्नों का अभ्यास करने का अवसर देगा।

परिवार और मित्रों का सहयोग लें:

अपने परिवार और मित्रों को अपने सपनों और तैयारी के बारे में बताएं। उनसे सहयोग और प्रेरणा मांगें। उनका समर्थन और आपकी प्रेरणा आपकी तैयारी को मजबूती देंगे।

धैर्य और प्रेरणा बनाए रखें:

अपनी तैयारी के दौरान, धैर्य रखें और प्रेरणादायक वातावरण में रहें। तैयारी में विफलता के दौरान निराश न हों, बल्कि इसे एक मानवीय प्रक्रिया के रूप में स्वीकार करें और नये प्रयास करें।

आप चाहे तो उचित मार्गदर्शन और सही अपडेटेड अध्ययन सामग्री के लिए संस्कृति IAS Coaching सेंटर से भी जुड़ सकते हैं। यहां पर एके अरुण , कुमार गौरव , अखिल मूर्ति , रीतेश जायसवाल , सीबीपी श्रीवास्तव , राजेश मिश्रा , अमित कुमार सिंह जैसे अनुभवी शिक्षक हैं।

आईएएस की तैयारी के लिए ये सुझाव आपको निरंतरता, समर्पण, और मेहनत के साथ सफलता की ओर ले जाएंगे। यदि आप एके अरुण के इन सुझावों को अपनाते हैं, तो आपकी तैयारी में मजबूती आएगी और आप अपने लक्ष्य की ओर बढ़ सकेंगे। आपके सपनों को पूरा करने के लिए आपकी मेहनत, संघर्ष और समर्पण सफलता का कुंजी हैं। शुभकामनाएं और सफलता की कामना करते हैं!